ACE – class 1

प्रिय मित्रो,

सादर नमस्ते.

आज की क्लास कैसी लगी? आशा है कि बोझिल नहीं थी. यदि ऐसा है, तब भी आपके धैर्य की अपेक्षा रहेगी क्योंकि मुझे आभास हुआ कि यह काफी हद तक सूचनात्मक थी.

टंकन, ई-प्रकाशन, ब्लॉगिंग, टूलबार, फ़ॉंट आदि पर काफी बातें हुईं, कहीं-कहीं पर आप दिशाहीन भी हुए होंगे परंतु अच्छी बात यह है कि आपको पता लग गया होगा  कि हिंदी में नेट के ज़रिए कितने महत्वपूर्ण कार्य किए जा सकते हैं…

भाषा-संरचना और भाषा विज्ञान आप लोगों को पढ़ाना है, खुशी की बात है.

परंतु मेरी सबसे बड़ी चिंता यह है कि आप अपनी प्राप्त जानकारियों का प्रयोग शिक्षण के व्यवहार में किस हद तक लाते हैं..

शेष, कुछ पुराने छात्रों को दुबारा देखने-मिलने पर मुझे बहुत खुशी हुई..

अगली बार से हम कुछ क्रियात्मक कार्य पर लग जाएँगे..

तब तक के लिए,

मुस्कुराते रहें..खुश रहें

नमस्कार,

विनय

About Vinaye Goodary
senior lecturer in Hindi at the Mahatma Gandhi Institute, moka, mauritius. innovative in teaching using ICT, blogs and multimedia resources. interest in arts, culture, history and literature. शेष तो मैं ही मैं हूँ... स्वागत है.

66 Responses to ACE – class 1

  1. सादर नमस्ते गुरुजी,
    आप से मिलकर खुशी हुईl पहली बार हमें आपसे पढ़ने का अवसर मिला l शुक्रवार को ‘ए. सी. ई’ वालों के साथ आपकी पहली कक्षा थी जो काफी हद तक सूचनात्मक थी l हम ने आपसे कई नई बातें सीखीं जैसे टूलबार, फ़ॉंट आदि l वैसे आज की दुनिया तो नेट की दुनिया है l आपकी कक्षा के बाद, हमें अहसास हुआ कि हम नेट के ज़रिए हिंदी में कितने महत्वपूर्ण कार्य कर सकते हैं l हम नेट की सहयता से अपने छात्रों के लिए कहानियाँ, कविताएँ, खेल आदि तैयारियाँ कर सकते हैं l हम कक्षा में नवीनता लाकर पढ़ाई को ज़्यादा रोचक बना सकते हैंl ऐसा करने से, मुझे विश्वास है कि हमारे बच्चे हिंदी की पढ़ाई में रूचि दिखाएँगे l हमें आशा है कि आप के शिक्षण, सहायता और सलाह से हम अपने कार्य में काफ़ी सुधार ला सकते हैं जिससे हमारे बच्चे लाभ उठा सकते हैं l
    आप जिन वेबसाइट्स पर काम कर रहे हैं उनके लिए बहुत बधाइयाँ आपको l
    नमस्कार
    भामिनी
    ए. सी. ई. छात्रा

  2. Deepa says:

    Very good innitiative..its a good medium to keep in touch with the students as well as to encourage them..Hindi language is moving ahead,proving that its also a computerised area as the other arts subjects are.This will really keep our young generation motivated to remain close to hindi.All the best for future..

  3. meenakshee says:

    शुक्रवार की कक्षा रोचक थी क्योंकि इसमें काफी कुछ नया सीखने को मिला I यह जानकर बहुत खुशी भी हुई कि महात्मा गांधी संस्थान अप्रत्यक्ष रूप से हमें आई.टी और इंटरनेट की शिक्षा दे रही है I आज इसका प्रयोग करने से हमें अंक मिलेंगे और मैं साचती हूँ कि M.G.I की ओर से यह एक बढ़िया प्रयास है I इस प्रयास में आज हर छात्र को इंटरनेट सीखना ही पड़ेगा I

  4. vinaye says:

    namastee guru ji ACE student Prema here found the last session very interesting it help me to understand how to make use of IT so as to make Hindi teaching up-to-date also came to know lots about the fonts.we as teachers needs very much these informations thanking u for having given us these precious knowledge

  5. Shivranee Baibee says:

    Hello everybody and नमस्ते !
    The class was very much interesting and what I appreciate is that we were all encouraged to use advanced pedagogical tools relating to the software download and mentioned platforms. As Mr. Vinaye has pointed out that we’ve might gone off track at some point in detailed explanations however, we are rather lucky to be given the opportunity to participate and interact online; based on the coursework or other pertaining issues. So, no need to get frustrated at all!

    As far as Baraha software free download is concerned, I was unable to keep on typing as this message box appeared as [BarahaIME becomes functional again after 600 seconds. Please register Baraha to remove this restriction and to access other premium features.] and a license key was required for that.
    I think others too came across this problem. Can further discuss about it on Friday upcoming. Will surely post my future comments in Hindi!

    Thanks and Regards,
    Shivranee.

  6. Shivranee Daibee says:

    Sorry it’s S. Daibee

  7. veenadaibee says:

    Hello everybody and नमस्ते !
    The class was very much interesting and what I appreciate is that we were all encouraged to use advanced pedagogical tools relating to the software download and mentioned platforms. As Mr. Vinaye has pointed out that we’ve might gone off track at some point in detailed explanations however, we are rather lucky to be given the opportunity to participate and interact online; based on the coursework or other pertaining issues. So, no need to get frustrated at all!

    As far as Baraha software free download is concerned, I was unable to keep on typing as this message box appeared as [BarahaIME becomes functional again after 600 seconds. Please register Baraha to remove this restriction and to access other premium features.] and a license key was required.

    I think others too came across this problem. Can further discuss about it on Friday upcoming. Will surely post my future comments in Hindi! तब तक के लिये…

    Thanks and Regards,
    Shivranee.

  8. Naga Reshma says:

    Dear Goodary sir,
    The class is actually very interesting and i get to learn quite a lot while attending it. Nevertheless, the course is demanding and much of my time is taken up in working and preparing assignments. I would be much grateful to you if you could reduce the number of assignments due to the forthcoming CPE exams which is keeping me busy these days. Preparing students is not an easy task!
    Thanking you
    Mrs. Reshma

    • Reshma says:

      सादर नमन, गुरुजी।

      सच बताऊ तो आपकी दूसरी कक्षा में मुझे आपकी बात समझने में कठिनाई हुई। आपने बताया कि निबंध में विचारों कि विविद्धता होती हैं जिसमें क्रमबद्धता, गंभीरता, विचारों के तार्तम्यता एवं तार्किकता होनी चाहिए। निबंध में एक आरंभ,मध्य और अंत होना चाहिए। निबंध लिखते समय मैं इन सारी बातों को ध्यान में रखूँगी।

      नमस्कार
      रेशमा

  9. S.Envadoo says:

    course: ACE
    date: 9 sept 2011
    lecturer: Mr. K. Goodary
    module: language & linguistic

    comment on session

    Aadhoonik sikshan pranali mein ICT ko ek mahatwapurna upkarna ke roop mein prayog mein laakar hindi sikshan ko sugamtaa pradaan
    karne ki prerna mujhe mili. iss udeshya ko anjaam tak pahoochane ka mera bharpoor prayaas rahega.

    From:
    S.Envadoo
    tcp(2003-2005)

  10. s.sewpal says:

    नमस्ते गुरुजी,
    ए.सी ई कोर्स में आपका स्वागत है। आप धन्यवाद के पात्र हैं। एम. जी. आई में आप ही ऐसे है जो छात्रों को आई टी के बारे में अप्रत्यक्ष रूप से प्रशिक्षण दे रहे हैं। मैं तो इससे पूरा लाभ उठाती हूँ। मै अपना शोध कार्य भि खुद टाइप करती हूँ। आप हम अध्यापकों की बहुत मदद कर रहे हैं। इससे हमारा काम आसान हो जाता है। पर अगर लापतोप नहीं तो ज़रा मुशिक्ल हो जाती है क्योंकि एज़ियन टीचर के लिए समय और न्यू टेक्नोलोजी आसानी से प्राप्य नहीं ।फिर भी अपने स्वयं के प्रयोग हेतु आपकी दी गयी सभी जानकारियाँ लाभप्रद है।
    Personally am very grateful to you sir for all the useful and important tips u gave and would be giving us in future. thanks a lot guruji.

    from s. sewpal

  11. Namaste guruji! Kaksha rochak thi kyunti IT ke prayog se ham apni hindi ka maan bara rahe hain! Garv ki baat hai! Jai ho! In sabhi baton ko apne shikhshan me karya roop deinge taki hamari bhasha aur nikhar jaye! Dhanyavaad,Sanita RAJMUN

  12. neerputh anjalee says:

    Aap ki kaksha rochak rahi. Aap se bohout kuch sikhne ko mila. Meii IT tatha Internet se kafi aparichit thi lekin aap ko dekhkar aur sounkar hamari bhi outsah barhi. Aaj se meii iska prayog bhi kar rahi houn. Aap ko bohout dhanyavaad.

    From : Mrs Neerputh Anjalee Devi
    Ace Course 2011

  13. vidye manghi says:

    Namaste Guruji,the class was interesting. I got to know many things about how to use IT. You not helped us to know the fonts but also encoureged us to make maximum use of it.This is the first time i am using it and i find it quite useful and interesting. Thank you

  14. Hinchoo Komal Devi(Jevallee) says:

    Namaste guruji. Apki kaksha bahout hi labhdayak tha. peheli baar humne kissi kaksha mein shuru se antt tak dhyaan diya.kitni hi eisi kaksha chali jismein humne kuch hi nahin samjha.ine websiton ke bare mein hum nahin jaante the.iss se hum computer par hindi bahout hi assani se likh sakte hein. apko bahout bahout dhanyyavaad.aap aaye bahaar ayi!

  15. Indranee says:

    Namaste Guruji. First i would like to apologize for mailing you in English as i have not yet installed Baraha software.

    The first session was interesting as i have got the opportunity to learn about internet facilities for Hindi thoroughly. I think that it will be of great help for me for my entire ACE course and my future career.

    Thanking you for your help

    Indranee Luchmun

  16. Sandhya Jhugroo says:

    Namasté Guruji,

    First of all I would like to congratulate you for initiating us the use of internet for our teaching. It is true that many of us already use the net but u have given additional information which i was not aware of like unicode n tagging. Also, you are the first lecturer to be posting the explanations online. This will benefit all of us tremendously. Again a big THANK YOU for that.

    The class was definitely very interesting..which enables us to remain alert all the time.

    Regards,

    Sandhya

  17. Aarti Rambaksh says:

    Namaste Guruji,

    The first class was really interesting. I came to know how to use IT in the field of Hindi

    • hurdoyal varma says:

      Namaster Guruji and to all friends.
      Hope you are enjoying the ACE CLASS, especially the class with mr vinay. This class is completely different compared with other classes or modules where we are mainLy told about the use of IT.Well to be frank the class was ok whereby guruji explain us the importance of IT (HINDI, HOW TO USE, ITS ADVANTAGE,ETC)..However, many ofour friends are encountering problems in downloading it including myself.

  18. Vidya Bhundoo says:

    Namaste Guruji,

    Your first class has really enriched my knowledge about internet and the use of information technology in Hindi. These informations will be of great help to me in the teaching of Hindi. Thank you for these precious informations.

  19. kritee Devi Ramphul says:

    namaster guruji
    your class was indeed very interesting I have even try to download baraha but getting the same problem as Shivranee B. Hope will soon get a solution from you. Thanks.

  20. IndraniDevi Busgeeth says:

    Namaste Guruji,

    Aapki kaksha bahut hi ruchikar rahi.hamein computer par hindi likhne ke navin fonts ke bare mein jankari mili jinse hum pehle aparichit the.hum net ka prayog kar sakte hein tatha hindi ke kai websites hein jinpar hum khojkarya kar aapne shikshan ko Adhik behtar bana sakte hein.aapke hi protsahan se mein pehli bar ke liye blog par kuch bhej rahi hu.iske liye aapko dhanyavaad kehti hu.

  21. Manorma Aubeeluck says:

    Namaste guruji! So far, every1 has said that ur class was quite interesting & i also agree with them as even i got 2 know some new things, especially concerning IT in the field of hindi. I have been able 2 download the baraha but i am not yet well used 2 it. Hoping 2 learn more interesting things in the next session. Shubh Ratri!

  22. siddhi says:

    नमस्ते गुरूजी
    a.c.e की कक्षा दिलचस्प थी IT हर क्षेत्र में लाभदायक सिद्ध हो रहा है तो क्यों न हम इसका प्रयोग हिन्दी शिक्षण में न करें . आप सोच रहे है कि हम IT का प्रयोग कैसे करेंगे तो आजकल sarkore projet के माध्यम से हम यह कार्य आसानी से कर सकते है. इस प्रकार के कार्य करने से बच्चे हिन्दी की पढाई में रूचि रखेंगे अगर आप के पास कुछ ऐसे हिन्दी creative website है जो बच्चों के लिए प्रयोग कर सकते तो हमें दीजिए. धन्यवाद

  23. Boodhoo Asha says:

    Namaste Guruji, mein Boodhoo Asha, ACE COURSE ki chatra apse kehna chahti houn ki shukravar ,9th september 2011,mein jo apke dwara kaksha hui mujhe achi lagi kwounki apne jo bhi kuch samjhaya waha hamare liye avashyak hein. Aajkal sabhi logh IT ki duniya mein ji rahe hein. Isiliye mujhe bhi lagta hein sabhi hindi shikshakon ko IT se 100% labh outhana chahiye. Dhaniyavadh.

  24. Lutchmun Lajwantee says:

    Namaste Guruji, mein Lutchmun Lajwantee, ACE COURSE ki chatra houn. Aap ki pehli kakshaa rochak thi. Mujhe IT ke kshetra mein bahut kuch sikhne ko mila. Ine jaankarariyon ke sahare, mein apni kaksha aur shikshan ko aur sajiv banaa sakoungi.

  25. seechurn-baurhoo kreetee kumari says:

    Pranaam Guruji,

    Firstly,I would like to apologize that I am sending my comments in English.Well,I have tried my best to send it in Hindi but unfortunately I did not succeed.Guruji,your A.C.E class was very interesting and fruitful for me because I did not have much knowledge about IT.It was a great opportunity for me to know about Toolbars,Font etc..This will be a great help for me in my class.I can make use of these IT techniques to make my class more interesting.I would really appreciate if in our next ACE class you can just go through what you have told us about the website http://www.baraha.com because I am getting the same problem as others.
    Namaste
    Mrs Seechurn-Baurhoo Kreetee Kumari
    A.C.E student

  26. awotar manisha says:

    very interesting class.it was indeed a great opportunity to know how we can use IT to make our class more interesting and lively.

  27. teena caumul says:

    Namaste GURUJI. main teena caumul. pehle kshama chahti houn ki roman characters mein apko comments bhej rahi houn. apki kasha bahut hi labhdaayak rahi mere liye kyunki ye sites mere liye aparichit the. agli baar bara ko download karke hi comments bhejungi. dhanyavaad guruji.

    • rajni jhurry says:

      नमस्ते विनय जी,
      आप ने कोशिश जारी रखने के लिए कहा।कठिन है पर असम्भव नहीं।इस से पहले मैं शुशा फण्ट में टाईप करती थी, बाराहा आप के द्वारा जान पायी।हिन्दी में पहली बार कुछ अलग सीखने का मौका मिला।हिन्दी में नेट से साक्षात्कार….हिन्दी टूलबार से पत्रिकाओं आदि को पढ़ पाना…एकदम दिलचस्प सिद्ध हो रहे हैं।कक्षा बोझिलता-रहित रही…मेरे अनुसार तो काफी हद तक इस में नवीनता लाई गई।गुरूजी आप बधाई के पात्र हैं।

      धन्यवाद
      राजस्वरी / रजनी झरी

  28. Vidushee Choytun says:

    Namaste Guruji Vinaye,

    Sorry to send my comments in english as i’m having some problems with the downloading but i’m sure it will be solved soon. As far as your class is concerned as everybody says it was really very enriching as we got to learn so many new things we came across that, no one ever cared to teach us or even inform us. The only request that i would very humbly make is to hold a practical class where those having their laptops can bring it in class and try to put into practice all that you are so willingly trying to teach us about IT. During the last class held maybe we missed some important points that are hindering the downloading process. Thanks a lot and see you tomorrow in our second class.

    From Mrs Choytun Vidushee
    ACE Course

  29. poornima ramdeehul says:

    नमस्ते गुरुजी,
    देरी के लिए क्षमा चाहती हूँ। मेरे यहाँ कुछ परिस्थितियाँ के कारण “इंतर्नेत” की सुविधा नही है फिर भी कोशिश की।
    आरम्भ में मुझे कुछ विपत्तियाँ हुईं।इसीलिए देरी हुई। आपकी ए.सी.ई की पहली कक्षा मेरे लिए रोचक रही।इस में “ सिखाना” का कार्य तो सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ ही साथ “सीखना” भी पीछे नहीं चूका। कक्षा में आपके द्वारा की बातें एवं प्रस्तूत विचार मेरे लिए प्रेर्णादायक सिद्ध हुए. “इंतर्नेत” हाँ सुना था, प्रयोग भी किया परंतु मात्र ही. इस कक्षा ने मुझे हिंदी की एक “अप-टु-डेट” अध्यापिका बनने के लिए सजग रहने पर विवश किया है. भविश्य में मेरा यही प्रयास रहेगा कि खास हिंदी के क्षेत्र में मैं हमेशा सतर्क रहूँ।नवीन साधनों का प्रयोग अधिकतर करूँगी।इस कक्षा से मैं लाभांवित हुई।धन्यवाद गुरुजी।
    आपकी छात्रा
    रामदिह्ल पूर्णिमा

  30. vimla sookoo says:

    namaste guruji
    thank you very much for having given us so much information about using the internet for hindi language also. indeed we knew about how to use the net but your information is very much related to our work as hindi teacher. now

    we can make maximum use of it to promote hindi language.sorry for the comments in english having some problems with baraha hoping to get some help on friday.again thank you .

  31. Namaste GURUJI. Foolessur Parvatee here. Sorry for writing in English . This is because i am unable to download the baraha.Now about your class – it was more informative and i really appreciated it. You have actually showed us the new horizons where hindi language can lead us. The idea given by you about what we can do for our respective schools using IT was great.Thank you for showing us this dimension.

  32. s. Kashinath says:

    namaste vinaye.mein deri ke liye kshama chahata houn. Mera computer kharab hein. Is liye mobile dwara samparka sthaapita karne ki koshisha kar raja houn. Aap ki Kakshaa acchhii thii. Fonts ke saath saath hindi jagat ke vikash Tathaa usse journe ka marg darshan laabhdayak rahaa. Dhanyavaad.

  33. Manjula says:

    Hello and Namasté ,
    First and foremost thank you Mr.Goodary for providing us such an opportunity to cooperate through this network. The initial class very interesting. I can definitely say we were all inspired. There was some common problem while using Baraha ,as others have already mentioned. No worry, I think you’ve discussed that.I’ll try my best to follow all your instructions and will send comments in hindi next time.
    Thank you again.
    मेरी शुभकामना,
    Manjula

  34. Vandanna Ramma says:

    नम्स्ते गुरूजी

    देर से लिखने के लिए क्षमा। आप की पहली कक्षा रोचक थी. IT के बारे में आप ने हमें अनेक जानकारियाँ दीं जिस से हमारा ज्ञान बढ़ा और हम ज़रूर इस से लाभ उठाएँगे।

    आज कक्षा कुछ बोझिल लग रही थी, शायद जगह की व्य्वस्था अच्छी नहीं थी इसलिए ध्यान केन्द्रित नहीं कर पा रहे थे।

    वन्दना रामा

  35. rjkavita says:

    Namaste guruji..
    Today ur class was quite interesting n interactive too. Bhashavigyan is such a complex topic that many students feel so bored wiz it but u conducted z class in such a way that am 100% sure that all students will agree wiz me that u made it really interesting. And above all u r giving us z opportunity to share our ideas online too. Am having some difficulties wiz z Bahara but am sure will be able to manage wiz it.

  36. Vishwanee Gopaul says:

    Namaste Guruji,

    First, I apologise for posting my comments after the second class. Well, indeed I can say we are lucky enough to have got the chance of being initiated to such an innovative strategy of learning and using Hindi language through the internet…though at first many of us are having some difficulties to use the baraha IME. and I think that your initiative to give hindi bhasha a new ‘birth’ is praiseworthy…hence, the class was very resourceful.
    Presently, I am unable to type few alphabets ..

    Now coming to today’s class. According to me it was a very interactive class where each and everyone’s views and ideas were taken into consideration. the components and qualities of a nibandh were explained thoroughly.

    However, I was unable to find a flow in the ideas presented..on top of that some of the words used were not easy to be idenified as they were new to some of us..I hope in the next session we will receive some more clarity on it..through a recap..in a simple way.

    Thanks again for your first resourceful class,
    regards,
    vishwanee…

    .

  37. poornima ramdeehul says:

    निबंध का मूल तत्त्व केवल यही समझती रही कि नियमानुसार अपने विचारों को क्रमता से बाँधना। परन्तु आपकी आज की कक्षा में मैं ने जाना कि निबंध में अपने भावों एवं अपने अनुभवों की अभिव्यक्ति करने में कुछ महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान देनी चाहिए। आरम्भ में कक्षा थोडी सी बोझिल लगी ( शायद वातावरण के कारण‌‌-क्योंकि ओडिटोरियम की धीमी रोशनी के कारण मैं अकुशल थी) । परंतु आपकी कक्षा की सजीवता एवं आपके हास्यप्रद उदाहरणों के कारण मेरा ध्यान केंद्रित हुआ , काफी कुछ समझ पाया और ज्ञान भी बढा।
    आपकी छात्रा
    रामदिहल पूर्णिमा

  38. neelam says:

    सादर प्रणाम , गुरुजी।
    आपके साथ फिर से काम करने की खुशी है। आपकी पहली कक्षा बहुत सूचनात्मक थी।हिन्दी में नेट का प्रयोग करने का बड़ा प्रोत्साहन मिला। आशा है कि आप से सिखी हुई बातें हमारे शिक्षण को और प्रबल बनाए जिससे हमारे छात्र भी लाभ उठा सके।

    नमस्कार

    नीलम

  39. neelam says:

    सादर नमन, गुरुजी।

    सच बताऊ तो आपकी दूसरी कक्षा में मुझे आपकी बात समझने में कठिनाई हुई। आपने बताया कि निबंध में विचारों कि विविद्धता होती हैं जिसमें क्रमबद्धता, गंभीरता, विचारों के तार्तम्यता एवं तार्किकता होनी चाहिए। निबंध में एक आरंभ,मध्य और अंत होना चाहिए। निबंध लिखते समय मैं इन सारी बातों को ध्यान में रखूँगी।

    नमस्कार

    नीलम

  40. Reshma says:

    Namaste guruji,
    moujhe baraha ime ka prayog karne mein pareshani ho rahi hein isi liye mein shama prarthi hou.
    asha hein ki agli baar mein apko hindi font mein comments dougi.
    kal apki class nibandh par adharit thi.moujhe pata chala hein ki nibandh kya hein ab nibandh likhate samay mein vicharon ki krambadhta par dyan dougi

    thank you

  41. vinaye says:

    namastee guruji prema mohundin here the second class helped to understand the factors to consider while writing a composition.today i was able to learn a few new words this increased my vocabulary.But i was not at ease in the auditorium a very heavy atmosphere over there the lights really brought a headache

  42. Aruna Boodhooa says:

    Aruna says:

    Namaste Guruji,
    First, I apologise for posting my comments after the second class. I’m pleased that i got the opportunity to work with you again. The first class was really interesting as I learnt new things about internet and Hindi programs. It is good that Hindi is progressing through internet and that students will be able to search any topics which they are having difficulties.

    The second class was about Nibandh ké Tatwa and this session helped me to better understand the steps of writing an essay. I was not at ease in the auditorium because the sitting arrangement was not convenient. But nevertheless, as it was an interesting topic, I was able to manage with it.

    Regards

    Aruna

    • rajni jhurry says:

      सादर नमन गु्रू जी,
      आप की 16.09.11 की दूसरी कक्षा भी सराहनीय रही…हालांकि इन्तर्नेत वाली कक्षा मेरे अनुसार ज्यादा रोचक थी। निबन्ध तो हमने कई लिखे हैं परन्तु निबन्ध के तत्वों के बारे में सही जानकारी आप की कक्षा से प्राप्त हुई। पूर्णाशा है कि आप की दी गई शिक्षा को मैं अपने शिक्षणचर्या में ढालने की कोशिश अवश्य करूँगी।

      सचमुच सीखने की कोई सीमा नहीं होती।आज भी नई चीज़ें सीखने को मिल रही हैं।

      धन्यवाद
      राजस्वरी झरी

  43. Bhaminee says:

    सादर प्रणाम, गुरुजी।
    शुक्रवार को आपने निबंध के मूल तत्वों के बारे में समझाया । लेकिन मुझे समझने में थोड़ी कठिनाई हुई। वातावरण के कारण‌‌ मैं अकुशल थी । ओडिटोरियम की धीमी रोशनी से कक्षा बोझिल लगी।
    परंतु आपकी कक्षा की सजीवता के कारण बार-बार मेरा ध्यान केंद्रित हो रहा था। मैं कुछ बातें समझ पाई। लेकिन कुछ बातें हवा में उड़ गयी।
    नमस्कार
    भामिनी
    ए. सी. ई. छात्रा

  44. rajni jhurry says:

    सादर नमन गु्रू जी,
    आप की 16.09.11 की दूसरी कक्षा भी सराहनीय रही…हालांकि इन्तर्नेत वाली कक्षा मेरे अनुसार ज्यादा रोचक थी। निबन्ध तो हमने कई लिखे हैं परन्तु निबन्ध के तत्वों के बारे में सही जानकारी आप की कक्षा से प्राप्त हुई। पूर्णाशा है कि आप की दी गई शिक्षा को मैं अपने शिक्षणचर्या में ढालने की कोशिश अवश्य करूँगी।

    सचमुच सीखने की कोई सीमा नहीं होती।आज भी नई चीज़ें सीखने को मिल रही हैं।

    धन्यवाद
    राजस्वरी झरी

  45. rajni jhurry says:

    अगली कक्षा की प्रतिक्षा में…..

  46. poonamramchurn@yahoo.com says:

    namaste guruji…

    hope u r doing well.

    first of all, my apology for posting my comments so late.
    i would like to congratulate you and along with thanking you for the wonderful initiation of sharing your knowledge along with encouraging all of us to use Hindi language through it tools.
    indeed it is beneficial for all of us.

    thanks

    jayshree

  47. taranginee devi mohit ramphul says:

    namaste guruji,dher se comments bhejne ke liye mafi chahti houn…
    sabse alag, sabse alag samjhane ka dhang bhi apke…weisse to sabi lecturers kaksha mein akhar sirf humse kehte hein ki hamein eisi wesi apna karya karna chahiye aur agar ho sake to apne karya ko type karke bhi dein. lekin kisi ne aj tak hamein yaha nahin bataya oun vidiyon ko jinhein hum prayog karke apna karya hindi bhasha mein type kar sakein.bhale hee aj IT yug hein, lekin hum hindi bhasha ko type karne ke liye parichit nahin hein…isi liye apki kaksha adhwitir hein guruji….apne hamein net ke bhare mein bataya aur kis tarah se bhi hindi bhasha mein type kar sakte hein…iss se hum apne karya mein nayapan aur rochakta la sakte hein…kushi ki bat hein ki hindi ke shetra mein bi kafi unati ho rahi hein aur hum apke zarie iss se parichit ho rahe hein…ap ka bi bara yogdhan hein kyunki ap humse net ka prayog karne ke liye keh rahe hein aur humse net ke dwara hi apna karya karwa rehe hein. humein aur bi protsahit kar rahe hein…none has till 2day adopted ur approach…

  48. luchmun indranee says:

    नमस्ते गुरुजी,
    आप की दूसरी कक्षा सराहनीय थी। आप ने जिस खूबी के साथ निबन्ध के तत्वों पर प्रकाश डाला, मुझे नहीं लगता कि अब किसी को भी निबन्ध लिखने में कठिनाई होगी। पहले तो मैं समझती थी कि निबन्ध का मूल तत्व विचारों को क्रमता से बाँधना है। पर आप की कक्षा के बाद मुझे निबन्ध के तत्वों का सही अर्थ पता चला। इस के लिए आप को बहुत धन्यवाद।
    MRS LUCHMUN Indranee
    MRS LUCHMUN Indranee

  49. siddhi says:

    नमस्ते गुरू जी
    आप की दूसरी कक्षा में आपने निबन्ध के तत्वों की चर्चा की. कुछ नई चीज़ जानने को मिली पर कक्षा कुछ बोझिल थी शायद रोशनी की कमी के कारण .

  50. RAMPUL Chatoor Vedeesingh says:

    Namaste Guruji,
    Well, first of all it was a pleasure to meet you after so many years. Last time we met was in Delhi so many years back, i think maybe in Vijay Nagar.
    Well, let’s come to the main purpose of my comment. Your first class was very interesting. I wish if other lecturers could also be so innovative. The most wonderful thing was that the class was very light, interesting and instructive.
    There were many points that i already knew and i learned a lot also from your class. I came to know the meaning of ‘Unicode’, ‘EN’ and some other simple yet so useful steps that you explained during your first session.
    I had downloaded the ‘baraha’ font long time ago but never used it in practice. Now, i will get the opportunity to get used to a Hindi font.
    You have great views concerning our Hindi Language and it’s future. With dedicated persons like you Hindi language will be in touch to each and everyone so easily. I wish you all the best and I’m sure that you will succeed in all your objectives. Keep it up.
    To end up i wish to thank you for such innovation and being pragmatic.

  51. Natasha Mohesh Jeenia says:

    Namaste guruji… looking forward for z next class… z last one we had on nibandh.. shabd..n languages.. helped me out in my other classes of arts, in understanding z use of language plus expressing our views, feelings, emotions n experiences through wat we write.. wat matters is being creative.. i guess…

  52. Shivranee Daibee says:

    सभी मित्रों को नमस्ते,
    दूसरी कक्षा के लिए(गत शुक्रवार, सोलह सितम्बर को),”सही जगह” की व्यवस्था न हो पाने के कारण,हो सकता है कि कुछ कही हुई बातों पर ध्यान केन्द्रित नहीं हो पाया… फिर भी मुझे लगता है कि कक्षा सजीव रही।
    निबन्ध के सही तत्वों के अर्थ स्पष्ट हुए। विचारों में “विविधता,क्रमबद्‍धता,गम्भीरता”,आदि पर चर्चे हुए हैं।

    कृष्ण कुमार यादव की पुस्तक की समीक्षा – “अनुभूतियाँ और विमर्श ” में निबन्ध की परिभाषा इस प्रकार बताया जाता है:
    ————————————–
    निबन्ध क्या है, क्या नहीं, इस पर विद्वानों में मतभेद हो सकते हैं। पहला तो यह है कि निबन्ध का एक रूप वह है जिसे व्यवहार में लेख कहा जाता है किन्तु इधर निबन्ध की जो परिभाषा हुई है, उसमें लेखक की वैयक्तिक अनुभूति और शैलीगत विशिष्टता को विशेष महत्व दिया जाता है। हिन्दी में दोनों प्रकार के निबन्ध मिलते हैं।
    ————————————–
    धन्यवाद;
    शिवरानी

  53. Vidushee Choytun says:

    नमस्ते गुरुजी,

    आप ही की सहायता से आज मैंने आपको हिन्दी में कुछ लिखने का प्रयास किया है. पहली बार के लिए इतने सालों की शिक्शण के बाद, मैं ने हाथों से अपने छात्रों के लिए प्रश्न पत्रों को टाइप किया. यह देखकर मुख्य अध्यापक भी अति प्रसन्न थे. इसका पुरा श्रेय आपको जाता है. आप ही से प्रेरित होकर एसा कर पाई. आपको धन्यवाद.

    आपका दुसरा सत्र काफ़ी हद तक हमारे लिए लाभदायक रहा. आसन संबंधी कठिनाई के बावजुद कुछ हद तक आपका उध्येश्य पूर्ण हुआ. हम निबंध के बारे में अधिक सीख पाए. धन्यवाद.

    Vidushee Choytun

  54. hurdoyal varma says:

    Namaste Guruji,
    the class was interesting. I got to know many things about how to use IT.
    hope will get more to learn from you in the forthcomming sessions and this will also fasilitate our task in using IT (HINDI)

  55. neelam says:

    प्रणाम गुरुजी,

    रिपोर्ट लेखन पर आपकी कक्षा बहुत रोचक थी। projector का प्रयोग करके आपने कक्षा में जीवंतता लाई, यह सराहनीय रही। आशा है कि आप इसी तरह हमें नयी बातें सिखाएँ।

    नमस्कार

    नीलम

  56. anjalee says:

    Guruji, aap ne nayi vidhi apnaakar, IT ka prayog karke kaksha ko aur bhi rochak banaaya aur Report sambandhi kafi kuch samjhaayaa. guruji meri samasyaa yaha hein ki meine assignmemt par kaam karna shuru kar diya hein lekin hindi mein type nahi kar paa rahi hou. Even to install bhasha india, there is a problem. If you can give us a cd or find any other solution. Aap ko dhanyavaad.

  57. Reshma says:

    Namaste guruji,
    Report writting par apki class bahot rochak thi. Moujhe asha hein ki mein bhi aap ki taraha IT ka prayog karke apni kaksha ko rochak bana saku.Guruji meine baraha IME ko install kar diya hein parantu type karne mein moujhe samasya ho rahi hein.please if you can help me to install the exact one.

    namaskar

    from naga khooblall reshma k

  58. ameeta says:

    नमस्ते गुरुजी,
    मुझे आप की कक्शा बहुत रोचक लगी.मुझे लगा कि ACE का यह course बहुत boring होगा.किन्तु आप के सहयोग से अब हमारा काम अधिक सहज हो जाएगा.बहुत लोग हिन्दी वालों को हीन भावना से देखते हैं.आज आप की मदद से हम कह सकते हैं कि हम भी किसी से कम नहीं हैं.हम आप के प्रति आभारी है.आप को कोटीशः धन्यवाद.

  59. anoupam doobur says:

    नमस्ते गुरुजी
    आपकी पहली कक्शा रोचक थी.मूझे पह्ले इन्तेर्नेत से हिंदी दाव्लोद करने के बारे मे पता नही था.लेकिनआजमे जान चुकी हु.मेरे कोम्प्युतर मे कुच ख् राबिया थी जो अब ठीक हो गयी हे .मे आप्के कार्य करने की कॉशिश करूगी .आपसे बहूत कुच सिख्ने को मिल रहा हैं.धन्यवाद

    अनूपम की ओर से

  60. Navelee says:

    नमस्ते गुरुजी
    मैं आपके कार्य करने की कोशिश करूँगी ।आपसे बहूत कुछ सिखने को मिल रहा हैं।
    धन्यवाद

  61. anjalee says:

    आप की कक्षा रोचक रही|

  62. vidye manghi says:

    प्रणाम गुरुजी, मैं अपने assignments भेज रही हूँ।
    निबन्ध
    प्राथमिक स्तर पर हिन्दी शिक्षण की चुनौतियाँ
    शिक्षण का कार्य अपने आप में आदर और सम्मान के योग्य है। देश के भविष्य को उज्जवल बनाने में शिक्षा का बहुत बड़ा योगदान है और शिक्षण प्रक्रिया के माध्यम से ही शिक्षा प्राप्त की जा सकती है। पाठशाला में छात्र कई भाषाएँ सिखता है, अंग्रज़ी, फ्रेंच, उर्दू, मराठी, हिन्दी आदि। हिन्दी भाषा सीखने से ग्यान की वृद्धी के साथ साथ बच्चे संस्कृति और सदाचरण से भी परिचित होते हैं। आज प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।
    शिक्षण प्रक्रिया में शिक्षक तथा शिष्य दोनों का होना अनिवार्य है। हिन्दी के प्रति बच्चों की रुचि घटती जा रही है, ऐसी मान्यता चल पड़ी है कि हिन्दी भाषा आवश्यक नहीं है। वे इस भाषा के प्रति हीन भावना रखते हैं। वे हिन्दी फिल्मों के गीत गाते तो हैं, परन्तु उन्हें हिन्दी पढ़ना, बोलना और लिखना अच्छा नहीं लगता। अध्यापकों की पूरी कोशिश रहती है कि बच्चे इस भाषा को पसन्द करें, इसे सीखें, और इसे अपनाएँ। कक्षा में भी कम काम दिया जाता है, जिससे कि वे हिन्दी को बोझिल न समझें, लेकिन यह कार्य आसान नहीं है।
    मोरिशस में ऐसी कई पाठशालाएँ हैं जहाँ हिन्दी की एक अलग कक्षा नहीं है। अध्यापक को पूरा दिन चलना पड़ता है, एक कक्षा से दूसरी कक्षा, दूसरी से तीसरी, तीसरी से चौथी, ऐसे पूरा दिन बीत जाता है। इससे समय बहुत नष्ट होता है, छात्रों और अध्यापकों का भी। हर दिन यदि पाँच मिनट खोते हैं तो एक सप्ताह में बहुत हो जाता है। इस के अतिरिक्त जो सहायक सामग्री तैयार करते हैं, उसे भी बार बार लगाना और निकालना पड़ता है, जो कि स्वाभाविक नहीं है। बिना साधनों, बिना सुविधाओं के हमसे अपेक्षा की जाती है कि हम बढ़िया काम करें।
    पहले के समय में ऐसे कित्ने माता-पिता थे जो उतने पढ़ने-लिखे नहीं थे, फिरभी वे पूरा प्रयास करते थे कि उनके बच्चे हिन्दी पढ़ें-लिखें। वे अपने बच्चों को प्रोत्साहित करते थे। शाम के समय उनको बैठकाओं में भी भेजते थे। आज बहुत कम ऐसे गाँव रह गए हैं, जहाँ शाम को बैठका में हिन्दी पढ़ाई जाती है। स्कूलों में ऐसी स्थिति है, जहाँ ऐसे माँ-बाप हैं जो हिन्दी पढ़ने को समय गँवाने के बराबर मानते हैं। उनके अनुसार हिन्दी अनावश्यक है, जो उनके बच्चे को और थका देता है, बच्चा क्यों और भाषा पढ़े जब वह अंग्रेज़ी और फ्रेंच सीख ही रहा है। जब भी बच्चा इस विषय में कम अंक लाता है, तो उनके लिए ज़्यादा सरल तरीका यही होता है कि वह छात्र आगे से हिन्दी नहीं करेगा। कभी कभी अध्यापक के समझाने पर कक्षा में रहते तो है, परन्तु ध्यान नहीं देते। ऐसे बच्चे पढ़ते कम दूसरों को ज़्यादा परेशान करते हैं, जो कि गलत है। हमारा प्रयास यह होता है कि समय रहते छात्र इस भाषा की उपयोगिता को समझें।
    समय में बदलाव के साथ-साथ व्यक्ति के स्वभाव में भी परिवर्तन होते हैं। बच्चे भी इससे अछूते नहीं रह पाते। कक्षाओं में हर एक छात्र का अपना स्वभाव होता है, कुछ शांत, कुछ जोश में, कुछ झगड़ालु, आदि। कुछ झगड़ालु शिष्यों के कारण अध्यापक कक्षा को अकेले नहीं छोड़ पाता, क्योंकि वे आपस में झगड़ने लग जाते और उनको चोट भी लग जाती। आजकल आपस में लड़ना-झगड़ना आम बात बन गई है जो कि सही नहीं है। शिक्षक कक्षा में सदगुणों के बारे में समझाते हैं, पर कित्ने उन पर अमल करते हैं?
    किसी भी भाषा को अच्छी तरह जानने के लिए उसके साहित्य को जानना, पढ़ना भी ज़रूरी होता है। पाठशालाओं के पुस्तकलय में हिन्दी की पुस्तकें हैं, पर उनमें से ज़्यादातर पुस्तकें विद्यार्थियों के स्तर की नहीं होतीं। कहानी, लेख, कविता आदि का रसास्वादन तभी किया जा सकता है जब भाषा ग्राह्य हो। अगर भाषा कठिन होगी तो छात्र आसानी से नहीं समझ पाएँगे। अतः पाठ्य-पुस्तक के अतिरिक्त पढ़ना मनोरंजन न होकर बोझिल बन जाता है। इस प्रकार, बच्चे केवल अपनी पाठ्य पुस्तक तक ही सीमित रह जाते हैं और उनकी शब्दावली में भी वृध्दि नहीं होती।
    शिक्षण के क्षेत्र में परिवर्तन लाए जा रहे हैं। अब श्यामपट और खड़ी का समय गया। प्राथमिक शिक्षण में भी नवीन उपकरणों का प्रयोग किया जा रहा है, जैसे-कम्यूटर, सांकोरे प्रोजेक्त आदि। इन सब के आने से शिक्षण को एक नया आयाम मिल रहा है। अतैव अध्यापकों को भी इसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए तभी वे अपने छात्रों की अधिक सहायता कर पाएँगे। बच्चे भी कम्यूटर से ज़्यादा प्रभावित होते हैं, और इससे उनका ध्यान केन्द्रित रहता है। कुछ स्कूलों में दुर्भाग्यवश हिन्दी वालों को ये सुविधाएँ नहीं मिलतीं।
    अगले साल से पहली कक्षा के हिन्दी पाठ्य पुस्तक में नवीनता लाई जा रही है। पुस्तक में भोजपुरी के गीत, कहानी, कविता आदि होंगे। यह एक चुनौतिपूर्ण कार्य है क्योंकि अध्यापक को हिन्दी के मह्त्त्व के साथ भोजपुरी का मान भी बनाए रखना है।
    अन्ततः हिन्दी शिक्षण की चुनौतियों का सामना करते हुए शिक्षक को अपना उत्तरदायित्व पूरा करना है, ताकि छात्र का भविष्य उज्जवल हो। शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन होना चाहिए, परन्तु शिक्षकों और छात्रों को साधन और सुविधाएँ भी मिलनी चाहिए तभी परिवर्तन लाभप्रद होता है। शिष्य, शिक्षक और अभिभावक तीनों के योगदान से शिक्षा का कार्य सरल बनता है।

    पत्र लेखन
    एक लड़की Mass Meditation के अपने अनुभव के बारे में अपनी सहेली को पत्र लिख रही है-

    क्लावेत रोड
    सेबास्तोपोल
    २०/१२/२०११

    प्यारी संजना,
    आशा तुम सपरिवार स्वस्थ और आनन्द में होगी। पिछली बार जब हम मिले थे, तुम ने मुझे “मास मेदितेशन” का एक आमंत्रण पत्र दिया था। उस दिन के बाद हम नहीं मिले तो सोचा तुम्हें पत्र ही भेज दूँ। जिस दिन “सामूहिक योग शिवीर” होने वाली थी बहुत वर्षा हो रही थी। पहले तो सोचा कि न जाऊँ, फिर सोचा दिन भर घर पर क्या करुँगी तो चली गई। वहाँ पहुँची तो भारी बरसात हो रही थी, पर जब मैदान में गई तो लोगों की भीड़ देखकर मेरा उत्साह और बढ़ गया। वे छाता ओढ़े अपनी चटाई बिछाकर स्वामी जी के आने की प्रतिक्षा कर रहे थे। वे बारिश में भीग रहे थे, फिरभी निराश नहीं थे। स्वामी जी ठीक दस बजे पहुँचे। उन्होंने गेहवे रंग के वस्त्र पहने थे और बहुत शांत दिखाई दे रहे थे। पहले तो मुझे आश्चर्य हुआ कि वे हिन्दी में नहीं बल्कि “क्रियोली” में बात कर रहे थे। उनकी ग्यान भरी बातें सुनकर बहुत अच्छा लगा। अब तक वर्षा कुछ कम हो गई थी पर सभी स्वामी जी की बातों को ध्यान से सुन रहे थे। उन्होंने हमें बस्तृका प्राणयाम के बारे में समझाया। प्रतिदिन यह प्रणायाम करने से कौन-कौन से लाभ हैं। कुछ समय समझाने के बाद, उन्होंने संकेत किया कि हम शुरू कर सकते हैं। हम सभी ने आँखें बन्द कीं और प्राणायाम करने लगे। बीच बीच में स्वामी जी अपनी बातों से हमें प्रोत्साहित करते, वे कह्ते, डरो नहीं मैं तुम्हारे साथ हूँ। लगभग पन्द्र्ह मिनट बाद उन्होंने हमें शांत रहने को कहा। लगभग पचास मिनट हम इस प्रकार बैठे रहे, फिर उन्होंने हमें धीरे-धीरे आँखें खोलने को कहा, जो हम ने किया। आकाश नीला था, धूप चमक रही थी, मानो प्रकृति भी हमारा साथ दे रही हो। जब मैं ने घड़ी देखी तो मुझे विश्वास नहीं हुआ कि इत्ने समय तक बिना हिले-डुले मैं बैठी रही। मैं अपने आप को बहुत हल्का अनुभव कर रही थी और अन्तर मन में मैं बहुत प्रसन्न थी। स्वामी जी ने उपदेश देते समय कहा कि यदि हम रोज़ सुबह-शाम पन्द्र्ह मिनट के लिए यह प्राणायाम करेंगे तो हमें बहुत लाभ होगा। अन्त मैं, कई लोग स्वामी जी से मिलने गए। मैं घर लौट आई। उस दिन से जब भी समय मिलता है, मैं बस्तृका प्राणायाम करती हूँ। सच है प्राणायाम करने से व्यक्ति स्वस्थ रहता है।
    तुम्हें बहुत बहुत धन्यवाद, अगर तुम उस दिन मुझे वह पत्र नहीं देती तो मैं वहाँ कभी नहीं जा पाती। तुम से एक आग्रह है, अगली बार जब ऐसा कोई आयोजन हो तो मुझे अवश्य सूचित करना। अगर अवकाश मिला तो मैं तुम्हारे यहाँ आऊँगी, बैठ कर बातें करेंगे। अपने माता-पिता को मेरा प्रणाम कहना।
    तुम्हारी सहेली
    विदय

    लेख
    प्राथमिक स्तर पर स्कूल का अन्तिम दिन
    आज ४ नवम्बर २०११, इस साल के स्कूल का अन्तिम दिन। तीन अवधियों की मेहनत के बाद यह दिन आया है। सभी बच्चे खुश हैं। स्कूल जाना है परन्तु, किसी को ये चिन्ता नहीं कि पुस्तकें-कापियाँ बस्ते में है या नहीं, गृहकार्य हुआ है या नहीं। आज तो उत्सव का दिन है। सभी छात्र अपने सुन्दर कपड़े और सुन्दर जूते पहनकर स्कूल जाएँगे।
    रोज़ की तरह आज भी पाठशाला के आंगन में शोर है, शोर में हंसी, ठहाके ज़्यादा सुनाई दे रहे हैं। प्रतिदिन की भांति, नौ बजे घंटी बजी, बच्चे कतार में आकर खड़े हो गए। प्रार्थना तथा राष्ट्रगान के बाद मुख्य अध्यापक ने अपना संदेश सुनाया। उन्होंने बच्चों को छुट्टियों के लिए, क्रिस्मस और नूतन वर्ष के लिए शुभकामनाएँ दीं। इस के अतिरिक्त, बच्चों को आराम के साथ साथ थोड़ी पढ़ाई भी करने का संदेश दिया। इसके बाद, जो विद्यार्थी परिक्षा में अच्छे अंकों के साथ पहले तथा द्वितीय स्थान पर आए थे, उनको पुरस्कृत किया गया। कित्ना विषेश अवसर है इन बच्चों के लिए, जहाँ उन्हें पूरी पाठशाला के सामने उपहार मिला और उनके साथियों ने तालियों से उनको बधाई दी। तालियों की ध्वनी से पूरी पाठशाला गूँज रही थी। फिर सभी अपनी अपनी कक्षा में पहुँचे। यहाँ का वातावरण भी सामान्य से अलग था। दीवारों पर रंग-बिरंगी मालाओं और रंगीन गुब्बारों ने सहायक सामग्री की जगह ले ली थी। इस दिन में अधिक मिठास भरने हेतु बच्चों को जूस के साथ मिठाई दी गई। विद्यार्थियों के लिए यह अन्तिम बार है जब वे अपनी इस कक्षा में बैठे हैं, क्योंकि अगले साल तो वे बड़ी कक्षा में होंगे। छ्ठी कक्षा के छात्रों के लिए तो सब कुछ बदल जाएगा, नया काँलेज, नये अध्यापक और नये मित्र। वहाँ उनको और ज़्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। मन में उत्साह भी होगा और थोड़ा डर भी। लगभग सभी बच्चों के दिमाग में यही बात है कि वे छुट्टियों में क्या-क्या करेंगे, कहाँ-कहाँ जाएँगे। कुछ बच्चे अपने परिवार के साथ घर पर ही अपनी छुट्टियाँ बिताएँगे।
    कक्षा में शोर है, फिरभी, अध्यापकों के चिल्लाने की आवाज़ सुनाई नहीं दे रही है। आज शिक्षक भी अपने छात्रों की सफलता की खुशियाँ मना रहे हैं। साढ़े ग्यारह बजे घंटी बजी, बच्चे चिल्लाते हुए फाटक की ओर बढ़े। कुछ ही पलों में पाठशाला का आंगन खाली हो गया।
    सच है छुट्टी का समय बच्चों के मन में खुशी और उत्साह भर देता है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: