BA Yr 2 FT: Lecture 5 & Lecture 6 – “क्षुद्रताएँ” का व्याख्यात्मक परिचय

Tuesday 04 October 2011, 08.30 – 11.00, BA Yr 2 FT, Mauritian Hindi Literature

 

इस लेक्चर में हमने प्रस्तुत कहानी के कुछ मूल मुद्दों पर चर्चा की.

जय जीऊत कृत “क्षुद्रताएँ” कहानी के शीर्षक की सार्थकता पर विस्तार से चर्चा करते हुए तत्कालीन समाज में स्थित जाति-विभेदीकरण संबंधी मान्यताओं की आलोचना की गई. इस संदर्भ में आप लोगों ने अपने अनेक अनुभवों की अभिव्यक्ति भी की जो कहानी की जटीलता, उसकी मूल समस्या को समझने में सहायक रही.

इसके अतिरिक्त कहानी का व्याक्यात्मक परिचय भी दिया गया. समस्या-निरूपण के साथ साथ कुछ मूल अंशों का विश्लेषण भी किया गया.

शेष आलोचना के लिए, कृपया BA PT Yr 1 के नोट्स देखें जहाँ पर विस्तार से समझाया गया.

धन्यवाद.

अगली बार, “चक्कर” (महेश रामजीयावन द्वारा रचित) कहानी के प्रस्तूतीकरण के लिए पद्मजा दोमन तथा उनकी टोली तैयार रहें. साथ ही सभी कहानी पढ़कर कक्षा में आने की कृपा करें.

विनय

 

About Vinaye Goodary
senior lecturer in Hindi at the Mahatma Gandhi Institute, moka, mauritius. innovative in teaching using ICT, blogs and multimedia resources. interest in arts, culture, history and literature. शेष तो मैं ही मैं हूँ... स्वागत है.

One Response to BA Yr 2 FT: Lecture 5 & Lecture 6 – “क्षुद्रताएँ” का व्याख्यात्मक परिचय

  1. yatchna mishra says:

    kahaani rochak hai parantu yaha bhi satya hai ki mauritius ke sandarbha mein jahaan tak mandir ki baat hai to ab ye sab bhed bhav nahin dekhe jaate parantu haan kuch parivaaron mein vivaah ko lekar kul aadi jeisi baatein saamne aa hi jaati hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: